काव्य

नन्हा परिंदा

आँगन में बैठी थी एक दिन मैं सोई सोई सी,लगता है अपने कुछ सपनों में खोई खोई सी।दूर आकाश में चिड़ियों का था शोर,नन्हे पर, लेकिन उड़ने की थी होड़।पल भर में बदल गया रंग आसमान का,छा गए काले बादल घनघोर।अब लौटना ज़रूरी है घरोंदों को ,इससे पहले की बरसाए नभ अपना आक्रोश।फिर खुदको ढूंढ… Continue reading नन्हा परिंदा

Poetry

A new life style

Life teaches us each day a new lesson, It's hard to resist that relations are now just for fashion Everything is all about bank balance, cars accessories and brand promotions No empathy for the weak, no more emotions No-one left to stand for the right Few are struggling for the survival and few are enjoying… Continue reading A new life style