काव्य

आज का दौर ..

नयी नयी सी है हवा ,नया नया है ये शौंक फूलो की जगहअब जुबान से झड़ती है गालियां !तुझ से जयादा हूँ मैं काबिल ,आती है मुझे बेहिसाब गालिया ! कभी शर्मा हया से झुकती थी जो आंखे ,आज उठ कर बेशरम सी हो गयी !सलीको से जो उठाते थे कदमअब नशो में झूमते है… Continue reading आज का दौर ..

Poetry

The Fear of The Poor…

Hey! Is someone there?I forgot my way out of fear.Will you help me?Could you explain to me, my rights?Or will the marginalized forever be the target of every fight?Please reveal to me what secularism is.Will it help, if I give it the name of a particular religion?I'm on the road, without food or shelter.Trying hard… Continue reading The Fear of The Poor…