काव्य

आज का दौर ..

नयी नयी सी है हवा ,
नया नया है ये शौंक
फूलो की जगह
अब जुबान से झड़ती है गालियां !
तुझ से जयादा हूँ मैं काबिल ,
आती है मुझे बेहिसाब गालिया !

कभी शर्मा हया से झुकती थी जो आंखे ,
आज उठ कर बेशरम सी हो गयी !
सलीको से जो उठाते थे कदम
अब नशो में झूमते है
नए दौर की नयी बाते
अब बदसलूकी पे बजती है तालिया !

कभी जुबा से ऊँचा नहीं बोला था कोई ,
दिल दुःख न जाये अपनों का कही
छुपा लेते थे सीनो में दर्द अपना !
अब अपनों को ही कुछ सिक्को के लिए ,
बेच देते है सरेआम बाज़ारो मैं,नशे में खींच लेते है
माँ के कानो की भी बालिया|

-Maya.

4 thoughts on “आज का दौर ..

  1. वाह। बिल्कुल सच बोला। पता नहीं क्यूँ आजकल के बच्चे गालियाँ बोलने में गरवान्वित महसूस करते हैं। शर्मनाक है ये।

    Liked by 1 person

    1. I could but when I’m revisiting the same scenario of people being highly abusive, and that too on a daily basis, how could I bring out something positive out of that?

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s