काव्य

मुकम्मल इश्क

मुकम्मल इश्क किस्सो और कहानियों का फर्जी हिस्सा है। असल में तो दाल रोटी का सारा किस्सा है। पेट की आग जब भङकती है सरेआम नीलाम होता है बिकता है जिस्म नुमाईशो में जब लालच से नाकाम होता है खाकर ठोकरे जमाने की जब खुद को ठगा पाता है तो ये लफ्ज़ अंधेरे में दफन… Continue reading मुकम्मल इश्क

Blog

Find the best from the worst.

"Sometimes we have to go through the worst to get to the best. Never give up!" The world is not new to me. For years, I have met a number of opportunist and manipulative people in my life. But I don't hold grudges against them because encountering such people makes you more confident and strong.… Continue reading Find the best from the worst.