काव्य

यादें!

यू ना शर्मा ए जिंदगी मुझसे हमें आज भी तेरा इंतजार है,

लौट के आएंगी खुशियां उन राहों पर हमें एतबार है|

वादे मोहब्बत के कभी झूठे किए नहीं जाते,

लौट के आ वापस तेरे तसव्वुर का दिल आज भी तलब गार है |

तुझे पाने के वास्ते हमने किए कितने जतन,

रोज आना गली में तेरी और ताकतें रहना तुझको हमें आज भी याद है |

वह तेरा बात-बात पर रूठना और नजरें तरेर के देखना हमको,

अपनी खिड़की पर आना और चले जाना,

नजरें चुराना हमसे आज भी बरकरार है |

@Maya.

7 thoughts on “यादें!

  1. “रोज आना गली में तेरी और ताकतें रहना तुझको हमें आज भी याद है |”
    Yeh toh papa ka dialogue hai!! 😁

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s